विज्ञान और विज्ञान की शाखाओं के बारे में। About the branches of science and science

About the branches of science and science

 
विज्ञान :- मनुष्य द्वारा अवलोकन एवं प्रयोग से प्राप्त वास्तविक एवं क्रमबद्ध ज्ञान को ही विज्ञान कहते हैं
 

विज्ञान को मुख्यतः दो भागों में बांटा गया है। रसायान शास्त्र भी इसका भाग है :-

  • भौतिक शास्त्र विज्ञान
  • जैविक शास्त्र विज्ञान/जीव विज्ञान

भौतिक शास्त्र विज्ञान का वह शाखा जिसके अंतर्गत निर्जीव वस्तुओं का अध्ययन विस्तार पूर्वक क्या जाता है उसे भौतिक शास्त्र कहते हैं।

जैसे :- भौतिक शास्त्र ,रसायन शास्त्र ,भूगोल शास्त्र ,भूगर्भ शास्त्र, खगोल शास्त्र ।
 
जैविक विज्ञान या जीव विज्ञान का वह शाखा जिसके अंतर्गत सजीव वस्तु का अध्ययन विस्तार पूर्वक किया जाता हो उसे जीव विज्ञान या जैविक विज्ञान कहते हैं ।

जैसे :- वनस्पति शास्त्र, जीव या प्राणी शास्त्र
 

भौतिक विज्ञान :-

“फिजिक्स”(physics) ग्रीक शब्द फ्यूसीस से लिया गया है,जिसका अर्थ प्रकृति होता है । भौतिक मूल रूप से संस्कृत शब्द है ,जिसका अर्थ भौतिक संसार होता है ,


इसी प्रकार भौतिक विज्ञान की परिभाषा :-

प्राकृति एवं प्राकृति में घटने वाली विभिन्न प्राकृतिक घटनाओं का प्राकृति  अध्ययन विज्ञान की जिस शाखा में किया जाता है उसे हम भौतिकी विज्ञान कहते हैं ।

रसायन शास्त्र :-

विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत पदार्थों के भौतिक या रसायनिक गुण संरचना संगठन अथवा पदार्थों के भौतिक या रासायनिक परिवर्तन या इनके नियमों का अध्ययन जिस शाखा में किया जाता है , उसे रसायन शास्त्र कहते हैं।


ध्यान दें :-

“लैबोजियर” रसायान शास्त्र के जनक कहे जाते हैं विकास एवं अध्ययन के सुविधा हेतु रसायान शास्त्र को मुख्यतः तीन भागों में बांटा  गया है ।

 
रसायन शास्त्र के तीन भाग :-

  • भौतिक रसायन शास्त्र
  • कार्बनिक रसायन शास्त्र
  • कार्बनिक रसायन शास्त्र

1.भौतिक रसायन शास्त्र:-

रसायन शास्त्र के वह भाग जिसके अंतर्गत पदार्थ के गुण एवं संरचनाओं का परिवर्तनों का अध्ययन विस्तारपूर्वक करते हैं


2. कार्बनिक रसायन शास्त्र:-
 

रसायन शास्त्र का वह भाग जिसके अंतर्गत कार्बन से बने यौगिक का विस्तार पूर्वक अध्ययन किया जाता है, उसे कार्बनिक रसायन शास्त्र कहते हैं।


3.अकार्बनिक रसायन शास्त्र:-
 

रसायन शास्त्र का वह भाग जिसके अंतर्गत कार्बनिक यौगिक को छोड़कर शेष अन्य यौगिक का अध्ययन विस्तार पूर्वक जिस भाग में किया जाता हो उसे अकार्बनिक रसायन शास्त्र कहते हैं।


ध्यान दें:-


अकार्बनिक यौगिक मृत श्रोत से प्राप्त होता है कार्बनिक योगिक जीवित प्राणी से प्राप्त होता है 
जैसे किसी जानवर को जलाने पर उसके शरीर या उसके अस्तित्व को जलने से जो धुआं निकलता है ।

 

“काला” वह कार्बन होता है तथा किसी निर्जीव वस्तु जैसे लकड़ी लकड़ी को जलाने पर जो धुआं निकलता है वह अकार्बनिक धुआं होता है

और जीवित प्राणी से जो धुआं निकलता है “काला” जैसा वह कार्बनिक होता है इस तरह हमें पता चल सकता है कि कौन कार्बनिक है कौन अकार्बनिक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Low Carbohydrate Diet FIFA World Cup Battlefield mobile video game