प्रकाश का प्रकीर्णन Prakash ka prakirnan Scattering of light.

प्रकाश का प्रकीर्णन । Prakash ka prakirnan । Scattering of light.

 

 

प्रकाश का प्रकीर्णन:-

जब सूर्य का प्रकाश वायुमंडल में प्रवेश करता है तो वायुमंडल में उपस्थित सूक्ष्म कण पर पड़ता है वेकन उन पर पढ़ने वाले कुछ ऊर्जा अवशोषित कर फिर उसे चार और पुनः विसर्जित ( छित्रित) कर देता है यह घटना प्रकाश का प्रकीर्णन कहलाता है।

प्रकाश का प्रकीर्णन Prakash ka prakirnan Scattering of light.


Short definition:- किसी कण पर पड़कर प्रकाश, प्रकाश के एक अंश को विभिन्न दिशाओं में (फैलाना) छितराने को प्रकाश का प्रकीर्णन कहलाता हैं ।
 

प्रकाश का प्रकीर्णन के कारण है निम्न घटनाएं देखने को मिलती है :-

1. अंतरिक्ष यात्री को आकाश काला दिखाई देना ।
2. बादल का रंग सफेद दिखाई देना  ।
3. सूर्याउदय एवं सूर्यास्त के समय सूर्य का लाल होना ।

 

1. अंतरिक्ष यात्री को आकाश काला दिखता है क्यों?

 
क्योंकि अंतरिक्ष में कोई कण उपस्थित नहीं रहता है अर्थात वहां निर्वात होता है
 
इसलिए वहां प्रकाश का प्रकीर्णन नहीं होता है और प्रकाश के प्रकीर्णन नहीं होने के कारण आकाश काला दिखाई देता है ।
 

2. बादल का रंग स्वेत (सफेद) दिखता है क्यों?

 
क्योंकि बादल सूक्ष्म बूंदे से बना होता है ये बूंदे विभिन्न तरंगधैर्य रंगों को‌ प्रकीर्णीत कर देता है ,
 
ये विभिन्न तरंगधैर्य वाले प्रकाश, लगभग समान रूप से प्रकीर्णीत करता है । इसलिए यह सभी रंग मिलकर स्वेेत रंंग संवेदना देता है । अत: बादल का रंग सफेद(स्वेेत) होता है ।
 

3. सूर्यादय एवं सूर्यास्त के समय सूर्य का रंग लाल(रक्ताव) होता है क्यों?

 
सूर्यउदय एवं सूर्यास्त के समय सूर्य पृथ्वी से काफी दूर होता है, ऐसी स्थिति में सूर्य के निकलने वाली प्रकाश को लंबी दूरी तय करना पड़ता है
 
जिसके कारण बैगनी रंग का प्रकीर्णन वायुमंडल में उपस्थित कणो के द्वारा हो जाता है क्योंकि नीले एवं अन्य रंग का तरंग धैर्य कम होता है
 
परंतु लाल रंग का तरंगधैर्य सर्वाधिक होता है जिसके कारण प्रकीर्णन सबसे कम होता है इसलिए प्रकाश का लाल रंग ही हमारे नेत्र ( आंख ) तक पहुंचता है अतः सूर्योदय और सूर्यास्त के समय लाल रंग का दिखाई देता है ।
 
 
याद रखें :-
 

खतरा का संकेत लाल होता है क्यों?

 
हम जानते हैं कि जिस रंग का प्रकाश का तरंगधैर्य जितना अधिक होता है उसका प्रकीर्णन कम होता है चुकी लाल रंग का तरंगधैर्य सबसे अधिक होता है
 
इसलिए लाल रंग का प्रकीर्णन कम होता है अर्थात लाल रंग लंबी दूरी तय करती है इसलिए खतरा का संकेत लाल होता है
 
OBJECTIVE QUESTIONS
 
1. सबसे अधिक तरंगधैर्य तथा कम तरंगधैर्य वाले रंग का नाम ?
 
👉 अधिक लाल और कम बैगनी ।
 
2. सबसे अधिक प्रकीर्णन तथा कम प्रकीर्णन वाले रंग का नाम ?
 
👉 कम लाल और सभी रंग का प्रकीर्णन अधिक होता है ।
 
❌❌ NOTE :- प्रकाश के प्रकीर्णन और भी बहुत सारी घटनाएं होती है अगर आपको किसी और घटना के बारे में विस्तार रूप से परिभाषित चाहिए तो कमेंट कर सकते हैं । ❌❌
 

ऐसे बहुत से घटना है जो और प्रकीर्णन के कारण होता है जिसका दृश्य काफी ही रोमांचक होता है । क्यों क्योंकि पर करना नहीं प्रकाश का एक हिस्सा है

और हमारी आंख प्रकाश से ही दिखती है इसलिए प्रकीर्णन से हुए कुछ ऐसे दृश्य जो हमें चौंका देते हैं जिसके बारे में हम जानते भी नहीं है कि यह कैसे होगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Low Carbohydrate Diet FIFA World Cup Battlefield mobile video game